समाचार

रमज़ान को लेकर WHO ने जारी किये दिशा-निर्देश, कोरोना के चलते मानने पड़ेंगे ये नियम

दुनिया भर में बढ़ते कोरोनावायरस COVID-19 मामलों के बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शनिवार (अप्रैल 18) को रमजान के पवित्र महीने के लिए दिशानिर्देश जारी किए, जो 24 अप्रैल को भारत में शुरू होने की उम्मीद है।

Covid-19 महामारी के मद्देनजर, WHO ने मुस्लिम समुदाय को कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए रमजान के दौरान कुछ चीजों का पालन करने का सुझाव दिया है। WHO ने सिफारिश की कि कोरोनोवायरस महामारी के मद्देनजर सामाजिक और धार्मिक समारोहों को रद्द करना महत्वपूर्ण है। कोरोना से अब तक दुनिया भर में 1.5 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़ें:कोलकाता: मास्क ना पहनने की ज़िद करने पर, 78 वर्षीय पिता ने बेटे की कर दी हत्या

डब्ल्यूएचओ ने सुझाव दिया है कि बड़े पैमाने पर सभाओं, को करने से बेहतर होगा कि वर्चुअल विकल्प, जैसे कि टेलीविजन, रेडियो या इंटरनेट जैसे माध्यमों का उपयोग करके इसे अपनाया जाए। “शारीरिक संपर्क से बचने के लिए, अभिवादन के अन्य साधनों को अपनाया जा सकता है जैसे कि इशारे या दिल पर हाथ रखकर अभिवादन। अस्वस्थ और बूढ़े लोगों को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए और जो लोग भी डॉक्टर से परामर्श ले रहे हैं वो कहीं भी जाने से बचें। हाई बीपी/ मधुमेह रोगियों को भी भीड़ में जाने से बचने के लिए कहा गया है।

WHO ने सिफारिश की है कि रमजान के दौरान किसी भी सभा को बाहरी सेटिंग में आयोजित किया जाना चाहिए और बड़ी सभा से बचना चाहिए। “अगर किसी बीमार व्यक्ति की पहचान किसी सभा में होती है, तो तत्काल उसका और उसके संपर्क में आए लोगों का चेक-अप होना चाहिये। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि सभी उपस्थित लोगों को मस्जिदों के अंदर और बाहर दोनों जगह उचित शारीरिक स्वच्छता सुनिश्चित करनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:अंधविश्वास: गांव को कोरोना से बचाने के लिए, गुजरात के शख्स ने ब्लेड से काट डाली अपनी जीभ

WHO ने सुझाव दिया और कहा कि लोगों को ‘इफ्तार’ पार्टियों का आयोजन नहीं करना चाहिए उसकी जगह पैकेट में भोजन वितरित कर सकते हैं। और जरूरतमंदों को ‘ज़काह’, या दान की पेशकश करते हुए शारीरिक दूरी बना कर रखनी चाहिये।

WHO ने हालांकि कहा कि COVID-19 के वक्त रोज़ा या उपवास पर कोई अध्ययन नहीं किया है, लेकिन सुझाव दिया है कि COVID-19 से संक्रमित लोग डॉक्टर से परामर्श कर के ही रोज़ा रखें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close